Tuesday, September 28, 2021
Homeबिहारनीतीश राज में बेटियों के हौसले हुए बुलंद : सुहेली मेहता

नीतीश राज में बेटियों के हौसले हुए बुलंद : सुहेली मेहता

कहा जाता है कि सपने पर केवल उसी का हक होता है जो उसे पूरा करने की हिम्मत रखता हैं। पुलिस अवर निरीक्षक के दीक्षांत परेड समारोह में जब पुरुषों के साथ महिलाओं को भी कंधे से कंधा और कदम से कदम मिलाकर चलते देखा गया तो हर किसी का सीना गर्व से चौड़ा हो गया।उक्त बातें जदयू प्रवक्ता डॉ सुहेली मेहता ने कही।

आगे उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह पुलिस अवर निरीक्षक का दीक्षांत परेड समारोह आयोजित किया गया। परेड समारोह में कुल 1605 प्रशिक्षु पुलिस अवर निरीक्षकों ने भाग लिया। इनमें 615 महिला पुलिस पदाधिकारी भी शामिल रहीं और ऐसा मुख्यमंत्री, श्री नितीश कुमार के द्वारा बिहार के सभी नौकरियों में 35 प्रतिशत के आरक्षण की घोषणा के परिणामस्वरूप हुआ।

मुख्यमत्री जी के द्वारा इस तरह के कदम उठाये जाने के बाद अब बिहार की हर उस बेटी का हौसला बुलंद होगा जो पुलिस कि वर्दी पहनकर बिहार की सुरक्षा में अपना योगदान देना चाहती हैं। फिर चाहे वह किसी मजदूर की बेटी हो या फिर किसी अमीर खानदान की बेटी अब वह अपने सपनों को आसानी से साकार कर पाएंगी। आपको बता दें कि 615 महिला अवर निरीक्षक के रूप में बिहार को मिल रहा है।

वही डॉ मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के ही महिला सशक्तिकरण के कार्य के वजह से पहली बार ऐसा हुआ जब इतनी बड़ी संख्या में महिला बल को ट्रेनिंग दी गई है। सभी को मानसिक और शारीरिक रूप से दक्ष बनाया गया है। महिला सशक्तिकरण के लिए विशेष ट्रेनिंग दी गई है। कोरोना काल मे सभी की ट्रेनिंग पूरी करना विशेष उपलब्धि है। सभी प्रशिक्षुओं को कोविड की भी ट्रेनिंग दी गई है। इसके साथ ही सभी महिला प्रशिक्षुओं को घुड़सवारी और कराटे की ट्रेनिंग दी गई है। यही वजह है कि महिलाओं के हौसले को अब और उड़ान मिलेगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के लिए बिहार में महिलाओं की सुरक्षा सबसे प्राथमिकता पर है।

वही महिला दारोगा के साथ-साथ बिहार में अब एक साथ बड़ी संख्या में महिला इंजीनियरों का चयन हुआ है। एक साथ इतनी संख्या में महिलाओं का चयन पहली बार हुआ है। बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) के इतिहास में पहली बार एक साथ 369 महिला इंजीनियरों का चयन हुआ है।

वही असिस्टेंट इंजीनियर (असैनिक) के अंतर्गत सात विभागों-पथ निर्माण विभाग, पीएचइडी, लघु जल संसाधन विभाग, जल संसाधन विभाग, भवन निर्माण विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग और योजना एवं विकास विभाग के लिए कुल 1241 उम्मीदवारों का अंतिम रिजल्ट 24 अगस्त को जारी किया गया था, जिनमें 872 और 369 महिलाएं हैं। ऐसे निर्णय से बिहार कि खुबसूरत रचना की कल्पना की जा सकती है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments