Monday, January 17, 2022
spot_img
Homeपॉलिटिक्सशराबबंदी पर बोलें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी:बिहार में शराबबंदी लागू करने वाले नीतीश...

शराबबंदी पर बोलें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी:बिहार में शराबबंदी लागू करने वाले नीतीश कुमार की नियत में हैं खोट

सुबह-सुबह तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से पूछे 15 सवाल

spot_img

बिहार में भले ही शराबबंदी हो पर यह कानून अब केवल कागजों पर सीमित नजर आ रहा है क्योंकि जिस तरह आए दिन बिहार में शराब की बड़ी-बड़ी खेप पकड़ी जाती है, जहरीली शराब से लोगों की मौत हो रही है इससे यह साफ नजर आ रहा है कि बिहार में शराब सिर्फ और सिर्फ बोतल में बंद है लेकिन चारों तरफ थानों और प्रशासन की निगरानी में हर चौक चौराहों से शराब की खुलेआम बिक्री हो रही है।

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर से नीतीश कुमार शराबबंदी की पोल खोल दी है और उन्होंने कहा है कि बिहार में आए दिन जो शराब का आयात निर्यात हो रहा है नीतीश कुमार क्या नहीं जानते हैं कि इन्हीं शराब की वजह से आज उनकी पार्टी बिहार की सबसे धनी पार्टी बन गई है। इस कानून को लागू करने वाले व्यक्ति के मन में ही जब खोट हो तो कानून पूरी तरह कैसे लागू हो सकता है।

नीतीश कुमार ने बड़ी कुटिलता से शराब बंदी से होने वाले अवैध आय को अपनी पार्टी की रीढ़ की हड्डी बना लिया है और बाहर शराबबंदी को लेकर बड़े-बड़े दावे करते नज़र आते हैं।तेजस्वी यादव ने कहा है कि शराब तस्करी हो या फिर जहरीली शराब पीने से मौत हो हमेशा आम आदमी को फसाया जाता है जबकि शराबबंदी कानून में आज तक कोई भी पैसे वाला या रसूखदार जेल नहीं गया है और अगर ऐसे लोग जेल जाते भी हैं तो पैसे देकर छूट जाते हैं लेकिन तीन लाख से अधिक गरीब, दलित वर्ग के लोग जो पुलिस और प्रशासन के लोभी जेब को गर्म करने के योग्य नहीं थे उनका जीवन नीतीश कुमार ने खराब कर दिया।

यह साफ स्पष्ट बताता है कि जो लोग शराब बंदी कानून में जेल में है वह ज्यादातर अति पिछड़े, दलित और गरीब समुदाय के लोग हैं। मुख्यमंत्री ये बात बहुत ही भली-भांति जानते हैं कि उनकी पुलिस उन्हीं की आंखों में धूल झोकती है लेकिन इसके बाद भी वह सब कुछ देख कर भी अंधे बने हुए हैं।

बिहार की इंटेलिजेंस विभाग हो या पुलिस विभाग हर कोई इस तथ्य से अवगत है लेकिन सभी एक ही थाली के चट्टे बट्टे हैं।हर दिन नवादा, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, गोपालगंज, बेतिया, बक्सर, इत्यादि कई जिलों में जहरीली शराब से सैकड़ों मौत सामने आ रही हैं क्या नीतीश कुमार इसकी जिम्मेदारी लेंगे।

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार से सवाल खड़ा करते हुए कहा कि बिहार में जो दूसरे राज्यों से शराब आता है तो बिहार सीमा के अलावा चार-पांच जिलों से होते हुए अपने गंतव्य स्थल तक पहुंचता है।

बिना विभिन्न जिलों के प्रशासन, मध्य निषेध एवं उत्पाद विभाग व पुलिस के शीर्ष अफसरों की आपसी मिलीभगत तालमेल और हिस्सेदारी के बिना यह कैसे संभव है। नीतीश कुमार भी यह भली-भांति जानते हैं कि शराब तस्करों को दी जा रही छूट के बदले मिलने वाली राशि से उनकी पार्टी को कितना बड़ा फायदा हो रहा है।

spot_img
RELATED ARTICLES

Most Popular